Translate भाषांतरण

Saturday, 25 February 2012

कार्य़शाला 2011 अंतर्गत नाड़ीग्रंथोंपर प्रकाश

पुणे, कोथरुड स्थित शंकर नगरी नाडी ग्रंथकेंद्र में उपस्थित एक जोडी में से पती अपने नाडीग्रंथोंके अनुभव से प्रभावित होकर अपनी पत्नी को साथ लाए थे। उनसे  मराठींमें वार्तालाप कर रहे हैं एड. राजेंद्र पाठक जी तथा शशिकांत ओक जो कैमेरामन का काम करते है। ( दिसंबर 2011)